Desh Bhakti Shayari in Hindi – देश भक्ति शायरी अनमोल वचन

Desh bhakti shayari in hindi is very popular keyword on Indian Independence Day and Republic Day. Today we are sharing some best देश भक्ति शायरी अनमोल वचन with image and wallpaper to share with your friends on facebook and whatsapp.

Desh Bhakti Shayari in Hindi – देश भक्ति शायरी अनमोल वचन

"<yoastmark


अनेकता में एकता ही हमारी शान हैं इसी लिए तो मेरा भारत महान है… जय भारत


आओ झुक कर करें सलाम उन्हें,
जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,
कितने खुशनसीब हैं वो लोग,
जिनका खून वतन के काम आता हैं…


तैरना है तो समंदर में तैरो नालों में क्या रखा हैं,
प्यार करना है तो देश से करो औरों में क्या रखा हैं…


अपनी धरती अपना हैं ये वतन, मेरा है मेरा है ये वतन
इस पर जो आंख उठाएगा, जिंदा दफना दिया जाएगा
मुझे जान से भी प्यारा है ये वतन….


ना हम भुले है ना यह ‘भारत’
आपके बलिदान से है यह ‘हमारा भारत’


खुशनसीब होते हैं वो लोग,
जो इस देश पर कुर्बान होते हैं,
जान देके भी वो लोग अमर हो जाते हैं,
करते हैं सलाम उन देश प्रेमियों को,
जिनके कारन इस तिरंगे का मान होता है….


खूब बहती है, अमन की गंगा बहने दो,
मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो,
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको,
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो…


देश के लिए प्यार है तो जताया करो,
किसी का इंतजार मत करो…गर्व से बोलो जय हिन्द,
अभिमान से कहो भारतीय है हम…


रात होते ही आप नींद में खो जाते है,
सूरज ढलते ही वो तैनात हो जाते है…


संस्कार और संस्कृति की शान मिले ऐसे,
हिन्दू मुस्लिम और हिंदुस्तान मिले ऐसे,
हम मिलजुल कर रहें ऐसे कि मंदिर में अल्लाह और मस्जिद में राम मिले जैसे।

Also Read: Mahatma Gandhi Quotes Suvichar

Also Read: Maa Baap Suvichar


Some More Desh Bhakti Suvichar

हर दिन, हर पल, देश का गुणगान करें हम,
यह देश हमारी मातृभूमि है, इसका सम्मान करें हम,
कितनी लड़ाई लड़ करके, वीरों ने देश को आजाद किया,
आओ शीश झुकायें इस तिरंगे के आगे और वन्दे मातरम गायें हम।


चढ़ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली, हम उनको प्रणाम करते हैं।
जो मिट गये देश पर, हम सब उनको सलाम करते हैं।


दे सलामी इस तिरंगे को जिस से तेरी शान है,
सिर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक दिल में जान है।


मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


ज़माने भर में मिलते हैं आशिक कई , मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमट कर मरे हैं कई , मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता।
आओ नमन करें उन शहीदों का जो हुए हैं कुर्बान इस ज़ज्बे से और हमें दे गए हैं यह आज़ादी तोहफे में।


भारत भूमि है महान, इसकी मिट्टी मेरा मान,
इसके गली और कूचे पल-पल भूले न भूलें,
रंग यहाँ के हैं दो-चार, भारत भूमि है महान,
माटी की सोंधी खुशबू लिए तितलियाँ घूमे चारों ओर,
इसकी भीनी खूशबू फैलायें चारो ओर
भारत भूमि है महान, इसकी मिट्टी मेरा मान।


इस तिरंगे को कभी मत तुम झुकने देना,
देश की बढ़ती शान को तुम कभी न रुकने देना,
यही अरमान है बस अब इस दिल में, कि ऐसे ही आगे तुम बढ़ते रहना।


मेरा भारत सब देशों से महान है।
नहीं है ऐसा कोई अन्य देश,
युगों बीतने पर भी वैसा ही है परिवेश,
विभिन्नता में एकता के लिए, प्रसिद्ध है हर प्रदेश,
प्रेम, अहिंसा, भाईचारे का जो है देता संदेश।


भारत माता तेरी गाथा,सबसे ऊँची तेरी शान,
तेरे आगे शीश झुकायें, दे तुझको हम सब सम्मान।


गंगा यमुना यहाँ नर्मदा,
मंदिर मस्जिद के संग गिरजा,
शांति प्रेम की देता शिक्षा,
मेरा भारत सदा सर्वदा।


Some Latest Desh Bhakti Shayari Quotes in Hindi

ना पूछो ज़माने से, क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो बस इतनी है कि हम हिंदुस्तानी हैं।


अपने वतन का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


चड़ गये जो हँस कर सूली,
खाई जिन्होने सीने पर गोली,
हम उनको प्रणाम करते हैं!
जो मिट गये देश पर,
हम सब उनको सलाम करते हैं!


दे सलामी इस तिरंगे को जिससे तेरी शान है,
सिर हमेशा ऊँचा रखना इसका जब तक शरीर में जान है।


आओ देश का सम्मान करें,
शहीदों की शहादत याद करें,
एक बार फिर से राष्ट्र की कमान,
हम देशवासी अपने हाथ धरें,


भारत माँ तेरी गाथा,
सबसे ऊँची तेरी शान,
तेरे आगे शीश झुकायें,
दे तुझको हम सब सम्मान।


आओ दोस्तों तुम्हें सुनाऊँ कहानी हिंदुस्तान की,
सुभाष चंदर बोस और भगत सिंह जैसे वीरों के अभिमान की,
जाति अलग, धरम अलग पर सबका बस एक ही नारा है,
भारत माता की रक्षा करना लक्ष्य यही हमारा है।


आज़ादी की कभी शाम ना होने देंगे,
शहीदों की कुर्बानी कभी बेकार ना होने देंगे,
बची हो जो एक बूँद भी लहू की तो,
भारत माँ का आँचल कभी नीलाम ना होने देंगे।