0

Safalta Ka Mantra – सफलता का मंत्र क्या है?

Safalta Ka Mantra – सफलता का मंत्र क्या है? दोस्तों क्या आप भी Success Tips ढूंढ रहे हैं… तो आईये जानते हैं इस Hindi Story या Hindi Essay की माध्यम से। इससे पहले हमने आपकों Goal Setting और Will Power बढाने के कुछ tips के बारे में बताया था जिसको आपने काफी पसंद किया।

safalta ka mantra

Safalta Ka Mantra – सफलता का मंत्र क्या है?

किसी की सफलता को ऐसे Celebrate करो कि व्यक्ति को Celebration की विशालता के सामने छोटा महसूस करे।
सफलता की कॉर्पोरेट वर्ल्ड में अत्यधिक महता है। सफलता मिलने पर एक एग्जिक्यूटिव की परफॉरमेंस को अच्छा माना जाता है।

परफॉरमेंस के बारे में मैनेजमेंट एक्सपर्ट्स का मानना है कि इसमें तीन चीजों का महत्वपूर्ण योगदान रहता है।
ये तीन चीजें हैं एग्जिक्यूटिव की Compitance यानी योग्यता,
उसका Motivation यानी उत्साह और कंपनी का Environment यानी वातावरण।

इन तीनों चीजों के उपयुक्त समावेश से ही परफॉरमेंस अच्छी की जा सकती है।
कई बार देखा गया है कि किसी कंपनी का बेकार परफॉरमेंस देने वाला एग्जिक्यूटिव दूसरी कंपनी में अच्छी परफॉरमेंस देता है
या किसी कंपनी का अच्छा परफ़ॉर्मर दूसरी कंपनी में एक ग्रेट फेलियर साबित होता है।

तो क्या है Success Mantra ?

यहां मैनेजमेंट एक्सपर्ट्स का मानना है कि कंपनी के आंतरिक वातावरण का किसी एग्जिक्यूटिव की सफलता में मजबूत योगदान होता है।
आंतरिक वातावरण में असंख्य चीजों का समावेश होता है।

इनमें से एक महत्वपूर्ण चीज ये है कि क्या संस्था के टॉप अधिकारी सफलता या अच्छी परफॉरमेंस के साथ कोई
एक्ससाइटमेंट जोड़ पाते हैं या नहीं।
Excitement का होना सफलता के लिए अत्यन्त आवश्यक है।

यदि सफलता प्राप्त करने के लिए या करने पर कोई एक्ससाइटमेंट नहीं है,
तो सफलता या अच्छी परफॉरमेंस को दीर्घकाल तक बनाए रखना नामुमकिन है।

एक्ससाइटमेंट से यहां तात्पर्य है ‘द इमोशंस ऑफ ग्रेट हैप्पीनेस,’ अर्थात् विशाल प्रसन्नता का महसूस होना।
कॉर्पोरेट वर्ल्ड के टॉप अधिकारियों को चाहिए कि एग्जिक्यूटिवस की छोटी सफलता को सेलिब्रेट करें।

कॉर्पोरेट वर्ल्ड में लोगों को ये अच्छी तरह मालूम है कि एक सुलझा हुआ आदमी वह होता है, जिसे ये पता होता है कि किन मौकों पर उसे प्रसन्नता के आगोश में थोड़ा इन्सेन होकर सफलता को सेलिब्रेट करना है।

यहां सेलिब्रेशन का कम से कम एक इवेंट एग्जिक्यूटिव के लिए बहुत बड़ा होना चाहिए।
ऑस्कर लेते हुए एक हॉलीवुड एक्टर के ये शब्द थे: ‘द मूमेंट इज सो बिगर देन मी’ अर्थात् ये क्षण मेरे से कितने बड़े हैं।

यदि सफलता को सेलिब्रेट करने के लिए किसी कंपनी ने इंसेटिव निर्धारित किए हैं,
तो उसे तुरन्त एग्जिक्यूटिव को दिया जाना चाहिए।

इसमें जितनी देरी होगी, उतना सफलता के प्रति एक्ससाइटमेंट कम होता चला जाएगा।
ऐसा होने से दीर्घकालीन परफॉरमेंस पर निगेटिव असर पड़ेगा।

सफलता का मंत्र क्या है….

किसी की सफलता को ऐसे सेलिब्रेट करो कि व्यक्ति अपने को सेलिब्रेशन की विशालता के सामने छोटा महसूस करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.