0

15 Back Pain Treatment in Hindi – कमर या पीठ दर्द का इलाज

Back Pain Treatment in Hindi – कमर या पीठ दर्द का इलाज
दोस्तों आज की हमारी इस पोस्ट में हम कमर या पीठ दर्द का इलाज Back Pain Treatment  को Hindi में जानेंगे और आशा करते हैं आपको ये Gharelu Nuskhe या Upchar पसंद आयेंगे.
कमर का दर्द प्राय: गलत रहन-सहन से होता है| कमर को असंतुलित अवस्था में रखना ही इस दर्द का कारण बनता है. अत: इस रोग की दवा के साथ-साथ कमर को संतुलित एवं सीधी दिशा में रखना हितकर होता है.

कमर दर्द के कारण
Causes Of Back Pain in Hindi

यह रोग ज्यादातर उन स्त्री-पुरुषों को होता है जो अधिक देर तक बैठे-बैठे या खड़े होकर कार्य करते हैं| उनकी मुद्रा गलत होती है जिसके कारण एक तरफ की नसें अकड़ जाती हैं| इसके अलावा नरम गदों पर सोने, ऑफिस या घर पर भारी वजन उठाने के कारण शरीर में खिंचाव उत्पन्न हो जाता है| कई बार मांसपेशियों में खिंचाव होने से भी कमर दर्द होने लगती है|

कमर या पीठ दर्द का इलाज
Top 10 Back Pain Treatment in Hindi

(1) सोंठ का चूर्ण दो चम्मच और नारियल का तेल एक चम्मच-दोनों को एक कप पानी में उबालकर सेवन करें.


(2) राई तथा सरसों का तेल समभाग में मिलाकर कमर की मालिश करें.


(3) सोंठ का चूर्ण पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर सेवन करें.


(4) लौंग का तेल सरसों के तेल में मिलाकर कमर पर मलें.


(5) राई,सरसों, तिल तथा कपूर-सबको समान मात्रा में लेकर अच्छी तरह पीसकर मिला लें.
फिर कमर पर 10-15 मिनट तक मलें.


(6) 10 ग्राम अजवायन की पोटली बांध लें.
फिर उसे तवे पर गरम करके 5 मिनट तक कमर की सेंकाई कम से कम 15 दिनों तक नित्य करें.


(7) जायफल के चूर्ण को सरसों के तेल में मिलाकर पका लें. फिर इस तेल को कमर पर मलें.


(8) असंगध और सोंठ बराबर की मात्रा में लेकर पीस लें. रोज 2 ग्राम चूर्ण सुबह के समय दूध के साथ सेवन करें.


(9) दूध में दो चम्मच सोंठ का चूर्ण डालकर उबाल लें. इस दूध का सेवन रात को सोते समय करें.


(10) पोस्त (खसखस) 10 ग्राम तथा कालीमिर्च 10 ग्राम-दोनों को पीसकर चूर्ण बना लें. इसमें से 5 ग्राम चूर्ण खाकर ऊपर से दूध पी लें.

Some More Back Pain Treatment in Hindi

(11) सहिजन के फलियों की सब्जी खाने से कमर दर्द में लाभ होता है.


(12) छुहारे में से गुठली निकालकर उसमें गुग्गुल भर दें.
इसके बाद छुहारे को दूध में पकाएं. यह दूध रात को सोते समय सेवन करें.


(13) सोंठ तथा तुलसी के बीजों का काढ़ा बनाकर सेवन करें.


(14) सरसों के तेल में जरा-सी अफीम डालकर पकाएं. फिर इस तेल की मालिश कमर पर करें.


(15) बरगद के पेड़ से चार-पांच कोंपलें लेकर चटनी पीस लें. सुबह नाश्ते के बाद गुनगुने पानी से यह चटनी खाएं. 10 ग्राम ग्वारपाठा का गूदा लेकर रोटी के साथ खाएं.

कमर दर्द में सामान्यत: किसी भी प्रकार की खाद्य वस्तुएं खाई जा सकती हैं| लेकिन जब वायु प्रकोप के कारण कमर दर्द हो तो वायु बनाने वाली एवं गरिष्ठ वस्तुओं के सेवन से बचना चाहिए| इसके बजाय सुपाच्य, हलके एवं पौष्टिक पदार्थो का उपयोग करें| सुबह हल्का व्यायाम करना अथवा शाम को कुछ दूर तक टहलना लाभकारी होता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.